Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

एक नायाब मौका

कितने दिन बाद मिले
ऐसे क्यों आवाद मिले ?
कुछ तो दिल में गम रखा होता ?
कुछ तो आंसू आंखों में लाया होता?
बिन आंसू के गम क्या?
बिना हुए आंखों के नम को
गम, कहा नहीं जाता है,
इसे मात्र दिखावा ही समझा जाता है |

दुनिया बड़ा अजीब है
आँखों में सब करीब है,
फिर भी क्यों लगता मुझे?
मैं भू पर हूँ तू ऊपर है |

एक मौका खोजता हूँ मैं
अपनो से दूरियां घटाने को
सब से मिलकर खुशियाँ मनाने को |

Language: Hindi
2 Likes · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ प्रणय के मुक्तक
■ प्रणय के मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" जुबां "
Dr. Kishan tandon kranti
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
8. टूटा आईना
8. टूटा आईना
Rajeev Dutta
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
मेरा हर राज़ खोल सकता है
मेरा हर राज़ खोल सकता है
Shweta Soni
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ये जिंदगी है साहब.
ये जिंदगी है साहब.
शेखर सिंह
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
Loading...