Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

एक तेरे चले जाने से कितनी

एक तेरे चले जाने से कितनी
कमजोर हो गई है मेरी
भावनाएं रूपी टहनियां
देख आंधियों से लड़ कर भी
कुछ ही अपनी शाखाएं बचा
पाया हूं की कही तुम लौटे और
मेरे दरख्वत सूखे ना हो ये सोच
स्वयं को सजीव रख पाया हूं
सुनो तुम लौट आना बिना
विलंब किए हुए क्योंकि
शायद बहुत लंबी जिंदगी मैं
लिखा कर नही आया हूं…
🖤🍁🖤
स्मृतियां

1 Like · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
16---🌸हताशा 🌸
16---🌸हताशा 🌸
Mahima shukla
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
Ravi Prakash
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
Loading...