Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

एक ठोकर क्या लगी..

गीत-87

एक ठोकर क्या लगी वे बिलबिलाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

लाख कहता मैं रहा पर सुन नहीं पाये कभी।
हो गया बदलाव कैसे दिख रहा है जो अभी।।
हर किसी से हाथ अपना वे मिलाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

जो नहीं समझे महत्ता आज-तक इंसान की।
बात करने लग गये हैं अब वही पहचान की।।
दिल मिले या ना मिले रिश्ते गिनाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

कह रहे हैं हाथ जोड़े अब बदल सकते नहीं।
यदि परखना चाहते हो तो परख सकते कहीं।।
हाथ अपनों से वही झुककर मिलाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

सज गये दरबार मौसम फिर वही कहने लगे।
जो गये थे रूठ उनसे साथ वह चलने लगे।।
मर गई उम्मीद को फिर से जिलाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

एक ठोकर क्या लगी वे बिलबिलाने लग गये।
याद हमको फिर वही कसमे दिलाने लग गये।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
मनमर्जी की जिंदगी,
मनमर्जी की जिंदगी,
sushil sarna
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
■ कृष्ण_पक्ष
■ कृष्ण_पक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
💐प्रेम कौतुक-495💐
💐प्रेम कौतुक-495💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
"मशवरा"
Dr. Kishan tandon kranti
शक्तिशालिनी
शक्तिशालिनी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
*अमर शहीद राजा राम सिंह: जिनकी स्मृति में रामपुर रियासत का न
*अमर शहीद राजा राम सिंह: जिनकी स्मृति में रामपुर रियासत का न
Ravi Prakash
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
Loading...