Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

दो का पहाडा़

एक गाँव में रहते थे दो चोर
चौरी करते चारो ओर
छ किलो पीते थे दूध
रोज खाते थे आठ अम्रुद्
दस गाव मे थे बदनाम
बारह थानो मे था उनका नाम
एक दिन चौदह थानेदार आये
सोलह उनपर केस लगाय
अट्ठारह मील दिया धकेल
बीस साल की हो गई जेल्
ऋतुराज वर्मा
प्रबंधक सरस्वती प्राथमिक शिशु मंदिर बहरिया

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
Ranjeet kumar patre
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
Ravi Prakash
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
आपके मन की लालसा हर पल आपके साहसी होने का इंतजार करती है।
आपके मन की लालसा हर पल आपके साहसी होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
Jogendar singh
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
Sonam Puneet Dubey
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
shabina. Naaz
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
नारी के मन की पुकार
नारी के मन की पुकार
Anamika Tiwari 'annpurna '
"यही वक्त है"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
Loading...