Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2024 · 1 min read

!! एक ख्याल !!

!! एक ख्याल !!

आज बैठे बैठे एक ख्याल आया कि किसी अपने का ख्वाब आया और दुआँओ से लबरेज आया और एक पैगाम आया फिर एक खुबसुरत सा अहसास आया और मेरे होठो पे एक मुस्कान आया वो वहाँ भी आया और यहाँ भी आया फिर लगा कितनी सच्ची और करीस है ये ख्वाबों कि दुनियां जहाँ कोई लालिमा नही जहाँ कोई किसी का ख्याब नहीं छीनता जहाँ किसी के सपने नहीं टुटते कि फिर किसी अपने का एहसास आया और अपनी दुनियां का ख्याल आया न जाने कहा था वे जो अपने ह्रदय मे स्थान दिया अपने का ख्याल आया आज बैठे बैठे एक ख्याल आया

स्वरा कुमारी आर्या ✍️

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विवादित मुद्दों पर
विवादित मुद्दों पर
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
Shweta Soni
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
Ravi Prakash
It's not always about the sweet kisses or romantic gestures.
It's not always about the sweet kisses or romantic gestures.
पूर्वार्थ
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
sudhir kumar
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
जमाना खराब है
जमाना खराब है
Ritu Asooja
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
नमन तुमको है वीणापाणि
नमन तुमको है वीणापाणि
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...