Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

एक और महाभारत

अब भी द्रोणाचार्य नहीं
सुधरा अगर!
तो एक और महाभारत
रहेगा होकर!!
फिर एक प्रतिभा का गला
घोंटा जा रहा!
आख़िर कैसे बैठे रहें
हम चुप होकर!!

Language: Hindi
203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दर्द देह व्यापार का
दर्द देह व्यापार का
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
"संयम"
Dr. Kishan tandon kranti
आधारभूत निसर्ग
आधारभूत निसर्ग
Shyam Sundar Subramanian
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
अनजान राहों का सफर
अनजान राहों का सफर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दिल को तेरी
दिल को तेरी
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*प्रणय प्रभात*
जब तक साँसें देह में,
जब तक साँसें देह में,
sushil sarna
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
Ravi Prakash
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
Swami Ganganiya
मात पिता का आदर करना
मात पिता का आदर करना
Dr Archana Gupta
Loading...