Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

एक और महाभारत

अब भी द्रोणाचार्य नहीं
सुधरा अगर!
तो एक और महाभारत
रहेगा होकर!!
फिर एक प्रतिभा का गला
घोंटा जा रहा!
आख़िर कैसे बैठे रहें
हम चुप होकर!!

Language: Hindi
Tag: कविता
24 Views
You may also like:
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
✍️सोया हुवा शेर✍️
'अशांत' शेखर
हमसे ना पूंछो तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
*सुबह से शाम तक कागज-कलम से काम करते हैं (हिंदी...
Ravi Prakash
बौद्ध राजा रावण
Shekhar Chandra Mitra
संगति
Buddha Prakash
प्रेम कविता
Rashmi Sanjay
जीवन और दर्द
Anamika Singh
ईर्ष्या
Shyam Sundar Subramanian
Writing Challenge- साहस (Courage)
Sahityapedia
ईद अल अजहा
Awadhesh Saxena
ज़िक्र तेरा
Dr fauzia Naseem shad
भाभी जी आ जाएगा
Ashwani Kumar Jaiswal
प्यार झूठा
Alok Vaid Azad
किरदार
SAGAR
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
*** " वक़्त : ठहर जरा.. साथ चलते हैं....! "...
VEDANTA PATEL
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
पहला प्यार
Sushil chauhan
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
श्री गणेश स्तुति
Shivkumar Bilagrami
शिक्षक दिवस पर गुरुजनों को शत् शत् नमन 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अगर मुझसे मोहब्बत है बताने के लिए आ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आहट को पहचान...
मनोज कर्ण
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
■ सामयिकी/ बहोत नाइंसाफ़ी है यह!!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...