Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

एक औरत की ख्वाहिश,

एक औरत की ख्वाहिश,
दो ही तरीके से
हो सकती है पूरी,
या तो वह खुद कमाये,
या मायके से भर भर के लाए,
बस..
बाकी जो बचें..
वो अपनी ख्वाहिशों को
कफ़न पहनाएं
और चैन की नींद सो जाएं…

1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
✍️ शेखर सिंह
✍️ शेखर सिंह
शेखर सिंह
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
Shashi kala vyas
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
*अध्याय 12*
*अध्याय 12*
Ravi Prakash
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2519.पूर्णिका
2519.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
It was separation
It was separation
VINOD CHAUHAN
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
Loading...