Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

“एकान्त चाहिए

“एकान्त चाहिए”

वक्त के आधुनिकीकरण में
रहकर अपने दिमागी संताप को
भूलने खातिर इस मन को
शान्ति खातिर एकान्त चाहिए

खाना छोड़ में. नीर के दम पर
दिन गिना रहा में दीन बन कर
अकर्म की चौखट पर पाव अपना धर कर
कह रहा खुद से मुझे एकान्त चाहिए

घबरा रहा मै मानवता के महां प्रयाण से
घबरा रहा मै देख दानवता के विकराल से
खामोश होकर सोच रहा मुझे क्यो एकान्त चाहिए

सान्तवना दे मैं खुद को .
एहसास प्रेम से परे पाकर खुद को
सुद देने रोज रोज बनकर उसको सुना रहा
जोर से मुझे एकान्त चाहिए

किसी अपने की प्रतीक्षा में गुरु बन शान्त रहे –
शिक्षा में चाहिए ना मुझे ना सोने-चांदी ‘ना. सुन्दर कन्या
बस बिजी रहना मुझे अपने ही हाल में शांत चित्त खातिर एकान्त चाहिए तेरी ही दीक्षा में

Language: Hindi
32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
सत्य कुमार प्रेमी
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
यूपी में मंदिर बना,
यूपी में मंदिर बना,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
*प्रणय प्रभात*
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
मेरा घर
मेरा घर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
"दहेज"
Dr. Kishan tandon kranti
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
आज के जमाने में
आज के जमाने में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...