Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

एकांत में रहता हूँ बेशक

एकांत में रहता हूँ बेशक
पर अकेला मैं नहीं
हूँ वसूलों पर ही कायम
जमीर का सौदा नहीं।

हार मत, प्रतिकार कर
तब दिन तेरा फिर जायेगा
बिन लड़े जो हार माना
जग में अपयश पायेगा।

जो अब भी सुप्त जमीर तेरा
घुट घुट के तू मर जायेगा
मृत्यु के उपरांत भी क्या
खुद को माफ़ कर पायेगा।

जिंदादिली से जीना है जो
बचपन बचा कर रखना जी
महसूस उम्र न हो कभी
आयुगत सोपान पर जी ।

हमसफ़र सब काम के
और सबके अपने मोल है
संकटों में साथ दे जो
हमसफ़र वही अनमोल है।

आवागमन के बंधनो से
मुक्त होना है अगर
दोमुहें दोहरे चरित्र से
मुक्त रखो तुम सफर।

सृष्टि का यह खेल शास्वत
जैसे किं दिन व रात है,
निर्मेष जीवन में यथा ही
सूखा कभी बरसात है।

निर्मेश

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
💐अज्ञात के प्रति-62💐
💐अज्ञात के प्रति-62💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
बारिश
बारिश
Punam Pande
आपका आकाश ही आपका हौसला है
आपका आकाश ही आपका हौसला है
Neeraj Agarwal
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
स्तंभ बिन संविधान
स्तंभ बिन संविधान
Mahender Singh
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
रंग आख़िर किसलिए
रंग आख़िर किसलिए
*Author प्रणय प्रभात*
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
gurudeenverma198
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
धर्मगुरु और राजनेता
धर्मगुरु और राजनेता
Shekhar Chandra Mitra
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...