Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

एकता

एकता

जब तक
मैं
मैं रहूंगा
और
तुम
तुम रहोगे
देश बंटता जाएगा।
जब
मैं
मैं न रहूंगा
और
तुम
तुम न रहोगे
हम मिलकर रहेंगे
देश बढ़ता जाएगा।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
Adha Deshwal
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
2613.पूर्णिका
2613.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
SURYA PRAKASH SHARMA
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
"आया मित्र करौंदा.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...