Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2023 · 1 min read

उसे मलाल न हो

नामुमकिन है
ऐसा सवाल न हो ।
खोकर मुझको
उसे मलाल न हो ।।
मुख्तलिफ लोग
साथ रह लेंगे ।
दरमियां सोच
का बवाल न हो।।
भीग जाएगा
अश्क़ से दामन
मेरे हाथों में
गर रूमाल न हो ।।
ज़िंदगी पर
यकीन आ जाता
मौत का जो
हमें ख़्याल न हो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

10 Likes · 471 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
★याद न जाए बीते दिनों की★
★याद न जाए बीते दिनों की★
*Author प्रणय प्रभात*
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
बुद्ध धाम
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )*
*कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
Sometimes
Sometimes
Vandana maurya
शायर अपनी महबूबा से
शायर अपनी महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम कौतुक-159💐
💐प्रेम कौतुक-159💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
मातृ दिवस पर विशेष
मातृ दिवस पर विशेष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
Jay Dewangan
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
Loading...