Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

उस”कृष्ण” को आवाज देने की ईक्षा होती है

मनुष्य और जानवर होने का फर्क को सिर्फ” – विवेक (Conscience)”और “प्राकृतिक ज्ञान / सहज ज्ञान – (Instinct)” की परिभाषा से शायद दर्शा सकते हैं !

यह “कलियुग का श्राप ” ही है के हम अपने इस जीवनकाल के महाभारत में खुद ही एक चक्रव्यूह की रचना कर डालते हैं और यदि विवेक का प्रयोग ना किया तो इस चक्रव्यूह को तोड़ने के प्रयास में खुद ही टूट कर रह जाते हैं ! यह भी उतना ही सत्य है की शायद यह मनुष्य की ही यह आसुरी प्रवृति है के सब से आगे निकल जाने कीऔर सब कुछ जल्दी पा लेने के होड़ मेंअपने विवेक का प्रयोग ना कर, “कलियुग”के शाप केप्रभाव में अपनेविवेक / अंतरात्मा को दबा बिलकुल “दुर्योधन दंभ” से गर्सितअपनों के ही सपनों और आशाओं की हत्या करदेते हैं ! कभी – कभी यही विवेक जब मनुष्यके अंतर्मन को झंझोड़ता है , तो कितनी ही बार यूं लगता है के शायद सिर्फ जानवरों जैसी “Instinct – प्राकृतिक ज्ञान / सहज ज्ञान” भर ही होता तो जीवन सरल और सहज होता, और एक मानव दूसरे मानव को “दानव दृष्टि” से ना देख रहा होता !

और यहीं उस”कृष्ण” को आवाज देने की ईक्षा होती है जो शायद एक बार फिर आ केइस “जीवन रुपी कुरुक्षेत्र” में एक नयी गीता का उपदेश दें , या इस दुर्योधन दंभ से बाहर निकाल , बिलकुल “पार्थ”की तरह ही इस “जीवन रथ के सारथि” बन , इस जीवन युद्ध में विजयी होने का आशीष दें , और इस शरीर की मृत्यु और आत्मा के अनंत होने की दृष्टि और विवेक दे सकें !

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
Radha jha
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
Ravi Prakash
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
3093.*पूर्णिका*
3093.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राजनीति" विज्ञान नहीं, सिर्फ़ एक कला।।
*Author प्रणय प्रभात*
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
"प्रवास"
Dr. Kishan tandon kranti
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
Aadarsh Dubey
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr Archana Gupta
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
मेरी पसंद
मेरी पसंद
Shekhar Chandra Mitra
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...