Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स दिखाया है।

इस एहसास ने अरसे बाद मुझको रुलाया है,
कि तेरी यादों के सिवा, कुछ और भी ज़हन में आया है।
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स दिखाया है,
जाने क्यों मेरी रूह ने, उससे खुद को जुड़ा पाया है।
अंधेरों ने उसकी राह को भी, कुछ ऐसा भरमाया है,
की नफरत की गहरी खाई में, उसने खुद का अस्तित्व गंवाया है।
जिसने कसम ली थी, की करेगा हिफ़ाजत सबकी,
एक पल लिए, वो खुद की हिफ़ाजत भी ना कर पाया है।
बादलों ने भी सोच की जमीं को, बंज़र का नज़ारा दिखाया है,
पर विस्मृत कर गया की, जिसने जन्म दिया उसने भी तो, कुछ सोच कर हमें बनाया है।
रौशनी की तलाश में वो, मुझसे यूँ हीं नहीं टकराया है,
चिराग जलाने की कोशिश में, उसने भी तो कई बार खुद को जलाया है।
कोशिशों में थी सच्चाई उसके, तो हौसलों ने भी बखूबी उसका साथ निभाया है,
अंधेरों को पीछे छोड़ अपनी रौशनी से, वो नया सवेरा साथ लाया है।
उसकी खोई हंसी ने फिर से, उसके होठों का ठिकाना पाया है,
और वैराग की राह में भटकते मेरे क़दमों ने, नयी मंज़िलों की तरफ खुद को बढ़ता पाया है।

4 Likes · 2 Comments · 234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
प्रजा शक्ति
प्रजा शक्ति
Shashi Mahajan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*प्रणय प्रभात*
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Destiny
Destiny
Sukoon
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
रास्तों के पत्थर
रास्तों के पत्थर
Lovi Mishra
Loading...