Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है

उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
सुन सुन यादों की गोश-बर आवाज़
हर शाम जैसे हो शामे-हिज्राँ
पर तसव्वुर में तो आज भी
और अय्यामे-गुल का ख़्वाब है
यादे-रफ्तगां का है ये आलम
हर शाम बज़्मे-तस्व्वुरात में
फ़ुसूने-नीमशब का होता है
रहता है इंतज़ार
शायद वो आ जाएँ ,
मशगूल हैं जो
दयारे-गै़र में बैठे
खुद-सताई में

अतुल “कृष्ण”
——-
गोश-बर आवाज़=आवाज़ पर कान लगाए हुए; शामे-हिज्राँ=विरह की शाम ;
तसव्वुर=कल्पना में,;अय्यामे-गुल=बहार के दिन,; यादे-रफ्तगां=पुरानी यादें,;
बज़्मे-तस्व्वुरात=ख़्यालों की महफ़िल, ; फ़ुसूने-नीमशब=आधीरात का जादू,;
दयारे-गै़र=दूसरों की गली ; खुद-सताई=खुद की प्रशंसा

1 Like · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
Ravi Prakash
■ याद रहे...
■ याद रहे...
*Author प्रणय प्रभात*
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
कवि दीपक बवेजा
Loading...