Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है

ग़ज़ल
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून, ला’नत है
पलट के आया नहीं मानसून, ला’नत है

गिराने के लिए ही प्यार का मकाँ तूने
ख़ुलूस-ओ-अम्न का खींचा सुतून, ला’नत है

सरों से छीन लिया तूने आशियाना, और
हमारे सर पे खड़ा माह-ए-जून, ला’नत है

गुज़ारनी थी तुझे अपनी सर्द रातें जो
बदन से काटा है भेड़ों का ऊन, ला’नत है

अवाम मरती रही और देखता तू रहा।
कहाँ गया तेरा इल्म-ओ-फ़ुनून, ला’नत है

बची है घट के अब आधी ‘अनीस’ आमदनी
कहा था हमसे कि होगी ये दून , ला’नत है
– अनीस शाह ‘अनीस ‘

Language: Hindi
2 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"नायक"
Dr. Kishan tandon kranti
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
ज़िंदगी में कामयाबी ज़रूर मिलती है ,मगर जब आप सत्य राह चुने
ज़िंदगी में कामयाबी ज़रूर मिलती है ,मगर जब आप सत्य राह चुने
Neelofar Khan
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
3179.*पूर्णिका*
3179.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*Deep Sleep*
*Deep Sleep*
Poonam Matia
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कथा कहानी
कथा कहानी
surenderpal vaidya
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
Madhuyanka Raj
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Kumud Srivastava
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
पूर्वार्थ
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
Lokesh Sharma
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*एकता (बाल कविता)*
*एकता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
🙅आज का विज्ञापन🙅
🙅आज का विज्ञापन🙅
*प्रणय प्रभात*
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
rkchaudhary2012
Loading...