Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 2 min read

उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प

उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प अर्पित करके मां लक्ष्मी को खुश कर आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं. आइए जानते हैं वो कौन से फूल हैं, जिन्हें लक्ष्मी माता को चढ़ाने से लाभ मिलेगा 1.कमल के फूल
मां लक्ष्मी कमल के फूल पर विराजमान रहती हैं. इसके साथ ही लक्ष्मी पंचमी पर उनको कमल का फूल अवश्य चढ़ाएं. शास्त्रों के अनुसार ऐसी मान्यता है कि व्यक्ति के जीवन में कई प्रकार के दुख हैं तो कमल का फूल चढ़ाने से इनसे छुटकारा मिलता है. मां लक्ष्मी की व्रत पूजा करने से सौभाग्य में वृद्धि होती है, साथ ही जीवन में सुख-शांति आती है. 2. गुड़हल का फूल
हर देवी-देवता के कुछ पुष्प प्रिय होते हैं, जिन्हें उनको अर्पित करने से उनका शीघ्र आशीर्वाद मिलता है. उनका प्रिय फूल गुड़हल का है. लक्ष्मी पंचमी के दिन उनको यह फूल अर्पित करने से साधक को शुभ परिणाम मिल सकते हैं. इसके साथ ही उपासक को मनोवांछित फलों की प्राप्ति हो सकती है.

3. कनेर का फूल
सफेद कनेर का फूल शांति का प्रतीक माना जाता है. गुड़हल के फूल के समान ही उनको सफेद कनेर का फूल बेहद पसंद है. लक्ष्मी पंचमी के दिन उनको कनेर का फूल अवश्य चढ़ाएं. ऐसी मान्यता है कि इस फूल को अर्पित करने से साधक को धन की कमी नहीं होती है. 4. गुलाब का फूल
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुलाब का फूल कई देवी-देवताओं का प्रिय होता है. खासकर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को गुलाब चढ़ाना शुभ माना जाता है. मां लक्ष्मी को गुलाब का फूल चढ़ाने से घर पर सुख-समृद्धि की वृद्धि होती है. इसके साथ ही धन-धान्य बढ़ता है. गुलाब का फूल अर्पित करने से आर्थिक तंगी से भी छुटकारा मिल सकता है.

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
समाज का डर
समाज का डर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*उदघोष*
*उदघोष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
"धैर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
Loading...