Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

उपहार

मन खिन्न बहुत हो जाता है,
जब मिलता है उपहार नहीं।
लगता है सुना सुना सा,
लगता जीवन साकार नहीँ।

कुछ लोग हैं रोते जूते को,
जबकि कुछ के हैं पांव नहीं।
पद उन्नति ख़ातिर कोई तरसे,
कुछ को रोजगार की ठाँव नही।

तृष्णा से ऊपर उठो मनुज,
जो पाया है उपहार कहो।
संतोष ही सार है जीवन का,
प्रतिदिन हरि का मनुहार कहो।

लम्बी फ़ेहिस्त उपहारों की,
उसके देने में नहीं कसर।
लालसा की आग में हम तपते,
हरि कृपा छांव का नहीं असर।

पहला तोहफा मानव जामा,
दूजा सेहत भी है पूरी।
तीजा जर दारा पूत धीया
चौथा धन से घर भरपूरी।

पांचवा प्रतिमाह मिले वेतन,
होता पाकर मन में आनन्द।
फिर भी हैं शुकर न करते जो,
वे जड़ हैं व हैं मतिमन्द।

सौगात अनगिनत रब के हैं,
फिर क्यों ज्यादा को रोते हैं।
सुख दुख कर्मों खेल यहां,
वही पाते हैं जो बोते हैं।

साँस साँस हम पाते प्रतिदिन,
बस मन में आभार चाहिए।
औकात से ज्यादा प्रभु देता,
और कितना उपहार चाहिये।

-सतीश सृजन,

Language: Hindi
359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आ..भी जाओ मानसून,
आ..भी जाओ मानसून,
goutam shaw
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
😢बड़ा सवाल😢
😢बड़ा सवाल😢
*प्रणय प्रभात*
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
कवि रमेशराज
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
जीवन को आसानी से जीना है तो
जीवन को आसानी से जीना है तो
Rekha khichi
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
गणेश अराधना
गणेश अराधना
Davina Amar Thakral
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
It All Starts With A SMILE
It All Starts With A SMILE
Natasha Stephen
"बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ"
Dr. Kishan tandon kranti
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
Neelam Sharma
जाने कितनी बार गढ़ी मूर्ति तेरी
जाने कितनी बार गढ़ी मूर्ति तेरी
Saraswati Bajpai
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
हो जाएँ नसीब बाहें
हो जाएँ नसीब बाहें
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिसने शौक को दफ़्नाकर अपने आप से समझौता किया है। वह इंसान इस
जिसने शौक को दफ़्नाकर अपने आप से समझौता किया है। वह इंसान इस
Lokesh Sharma
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
Loading...