Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

*उनकी है शुभकामना,मेरा बंटाधार (हास्य कुंडलिया)*

उनकी है शुभकामना,मेरा बंटाधार (हास्य कुंडलिया)
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
भरता मोबाइल सदा , आता जब त्यौहार
उनकी है शुभकामना , मेरा बंटाधार
मेरा बंटाधार , गैलरी भर – भर जाती
मजदूरों – सा काम , सफाई तब हो पाती
कहते रवि कविराय , बधाई से मन डरता
पटा पड़ा है फोन , बना बैंगन का भरता
————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
*Author प्रणय प्रभात*
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
कवि दीपक बवेजा
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लौट आओ तो सही
लौट आओ तो सही
मनोज कर्ण
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
Er. Sanjay Shrivastava
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
Loading...