Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2017 · 1 min read

उनकी अब्र सी नफरत

उनकी नफरत भी मुझे अब्र सी लगती है,
उनकी बेरुखी मुझे मीठा सब्र सी लगती है,
वो कितना भी छुपाये मुझसे अपना राज़ेदिल,
उनकी फ़िक्र मेरे लिए आज भी मुझे फर्ज सी लगती है,
उनको कैसे बतलाऊ अपना उदासी मिजाज,
उनके बिना मुझे अपनी ये जिंदगी कब्र सी लगती है,RASHMI SHUKLA

Language: Hindi
571 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from RASHMI SHUKLA
View all
You may also like:
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कबीर के राम
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
ऐ दिल तु ही बता दे
ऐ दिल तु ही बता दे
Ram Krishan Rastogi
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
Loading...