Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

उधार …

उधार …

लम्बे अंतराल के बाद
मिले भी तो
किसी अजनबी की तरह
इक दूजे को देखा
थोड़ा सा मुस्कुराए
और
चुका दिया
उधार
इंतज़ार का

सुशील सरना/8-2-24

1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे साहित्य का ज्यादा ज्ञान नहीं है। न ही साहित्य मेरा विषय
मुझे साहित्य का ज्यादा ज्ञान नहीं है। न ही साहित्य मेरा विषय
Sonam Puneet Dubey
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
59...
59...
sushil yadav
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
चैन से रहने का हमें
चैन से रहने का हमें
शेखर सिंह
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
3429⚘ *पूर्णिका* ⚘
3429⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ପରିଚୟ ଦାତା
ପରିଚୟ ଦାତା
Bidyadhar Mantry
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
पूर्वार्थ
स्वर्णिम दौर
स्वर्णिम दौर
Dr. Kishan tandon kranti
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
वो जो कहें
वो जो कहें
shabina. Naaz
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
कवि दीपक बवेजा
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
#खुलीबात
#खुलीबात
DrLakshman Jha Parimal
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
अनुभूत सत्य .....
अनुभूत सत्य .....
विमला महरिया मौज
प्रेम
प्रेम
Satish Srijan
Loading...