Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

उधारी जीवन

कुछ उधार था
जीवन पर
चुका दिया
हमने भी क्या क्या
बिता दिया।।

सूरज, चाँद, सितारे
ये रश्मि ये अँगारे
सभी तो अपने थे
पेट की भूख ने भी
क्या-क्या भुला दिया।।

अभी धूप घर के
आँगन में उतरी थी
परछाई थी अपनी
कुछ कह रही थी
अविराम हमने भी
उसको सुला दिया।।

तक़दीर के दरवाजों पर
होती रही दस्तक अनगिन
काया थी मुफ़लिस जो
साँसों को रुला दिया।।

आना कभी घर पर
अपने से पूछना
कुछ बदलने के लिए
क्या-क्या हटा दिया।।

सूर्यकांत

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Suryakant Dwivedi
View all
You may also like:
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
" सुनव "
Dr. Kishan tandon kranti
फुलवा बन आंगन में महको,
फुलवा बन आंगन में महको,
Vindhya Prakash Mishra
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
चला गया
चला गया
Rajender Kumar Miraaj
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
लोग कितनी आशा लगाकर यहाॅं आते हैं...
लोग कितनी आशा लगाकर यहाॅं आते हैं...
Ajit Kumar "Karn"
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बहुत संभाल कर रखी चीजें
बहुत संभाल कर रखी चीजें
Dheerja Sharma
3072.*पूर्णिका*
3072.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ दोनों चिर-विरोधी।।
■ दोनों चिर-विरोधी।।
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
*थर्मस (बाल कविता)*
*थर्मस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"Do You Know"
शेखर सिंह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
Loading...