Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

‘उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन

‘उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
लगे ये ज़िन्दगी ऐसी सजी जैसे कोई दुल्हन
किसी नीरस फ़साने को नहीं सुनता यहाँ कोई
बना मंज़र नज़ारा हो जिधर देखें वहीं सावन’

आर. एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 485 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
खामोश रहना ही जिंदगी के
खामोश रहना ही जिंदगी के
ओनिका सेतिया 'अनु '
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
इतिहास
इतिहास
श्याम सिंह बिष्ट
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
सनम
सनम
Satish Srijan
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*यह समय के एक दिन, हाथों से मारा जाएगा( हिंदी गजल/गीतिका)*
*यह समय के एक दिन, हाथों से मारा जाएगा( हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
अंदर से टूट कर भी
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
Loading...