Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

उठ जाग मनुष्य अपनी आँखें खोल,

उठ जाग मनुष्य अपनी आँखें खोल,
समय का तालिका बजता है निरंतर।
काम कर, कुछ कर, संसार में तू भी होल,
इस जीवन को नहीं मिलेगा दोबारा।

हर पल बदलता है, समय की धुन है ये,
जो नहीं समझता, वह होता है हरामी।
समय के साथ चल, नहीं रुकने वाला है,
जीते जी तू कर, कुछ समझने का कामी।

कुछ नहीं मिलता है, मुक्तक छंद में समझाया,
जो समझता है, वही करता है कुछ पाया।
मनुष्य का समय है, समझने का काम,
समय से पहले कर, मिलेगा तुझे नाम।

उठ जाग मनुष्य, अपने आप को जान,
समय का तालिका बजता है निरंतर।
काम कर, कुछ कर, संसार में तू भी होल,
इस जीवन को नहीं मिलेगा दोबारा।

विशाल..🙏🙏🙏

Language: Hindi
8 Views
You may also like:
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
कोई फाक़ो से मर गया होगा
कोई फाक़ो से मर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
हवा बहुत सर्द है
हवा बहुत सर्द है
श्री रमण 'श्रीपद्'
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
■ पूछती है दुनिया ..!!
■ पूछती है दुनिया ..!!
*Author प्रणय प्रभात*
संत गाडगे सिध्दांत
संत गाडगे सिध्दांत
Vijay kannauje
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
प्राची  (कुंडलिया)*
प्राची (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Sakshi Tripathi
उम्मीद का दिया जलाए रखो
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
💐प्रेम कौतुक-359💐
💐प्रेम कौतुक-359💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उगता सूरज
उगता सूरज
Satish Srijan
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
गुनाहों की हवेली
गुनाहों की हवेली
Shekhar Chandra Mitra
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
Dr Archana Gupta
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
विश्वामित्र-मेनका
विश्वामित्र-मेनका
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पर खोल…
पर खोल…
Rekha Drolia
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
Buddha Prakash
Loading...