Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा

मानवीय व्यवहारों से जहरीला
हो गया यमुना जी का पानी
फिर भी वो अभी बख्श रही
हैं करोड़ों लोगों को जिंदगानी
राजधानी दिल्ली के निवासी
खुद को मानते आधुनिक जरूर
पर यमुना की दीन दशा को ले
नहीं किया कोई आंदोलन मशहूर
केंद्र सरकार और बड़े संस्थानों का
अमला भी है वहां भारी भरकम
पर किसी संस्थान ने नहीं उठाया
बीड़ा कि यमुना की पीड़ा हो कम
दशकों से वहां यमुना की सफाई के
नाम पर बस होती रही खानापूर्ति
लगातार विषैली होते जाना बन गई
जीवनदायिनी यमुना की नियति
समूचे दिल्लीवासियों को एकजुट हो
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
अन्यथा निकट भविष्य में उन्हें जल
प्रबंधन में झेलनी होगी गहरी पीड़ा
नालों के जलशोधन के लिए सरकार
को करने होंगे ठोस और उचित प्रबंध
कचरे के सुरक्षित निपटारे को जगह
जगह लगवाने होंगे पर्याप्त संयंत्र

Language: Hindi
148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
3022.*पूर्णिका*
3022.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
दरदू
दरदू
Neeraj Agarwal
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
Rajesh vyas
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
Dr. Man Mohan Krishna
महाराष्ट्र का नया नाटक
महाराष्ट्र का नया नाटक
*Author प्रणय प्रभात*
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
Rose Day 7 Feb 23
Rose Day 7 Feb 23
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
Hum khuch din bat nhi kiye apse.
Hum khuch din bat nhi kiye apse.
Sakshi Tripathi
Loading...