Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

” उज़्र ” ग़ज़ल

बढ़ाता दोस्ती का हाथ हूँ, मुद्दत से मैं फिर भी,
उन्हें दुश्मन बनाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

मिटे हर फ़ासला, हर दम यही कोशिश रही मेरी,
उन्हें पर, दूर जाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

समँदर ने छुपा रक्खे हैं, कितने राज़ गहरे मेँ,
उन्हें ग़ुस्सा जताने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

भरोसा हर किसी पे, इस क़दर अच्छा नहीं हरगिज़,
कि दिल मेँ खोट आने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

है कश्ती नातवाँ मेरी, हुई पतवार भी जर्जर,
तलातुम उनको लाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

बड़ी चर्चा ज़माने मेँ है, उनके फ़ैज़ की फिर भी,
हमीं से, मुँह छुपाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

जला रक्खा है हमने दीप, आँधी मेँ भी उल्फ़त का,
उन्हें, तूफ़ां उठाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है।

खिलौनों की तरह खेलेँ न, मेरे दिल से वो, “आशा”,
कि इसके, टूट जाने मेँ, ज़रा सी देर लगती है..!

उज़्र # आपत्ति, objection
नातवाँ # दुर्बल, frail
तलातुम # विप्लव, उथल-पुथल, turmoil
फ़ैज़ # दानवीरता, mercifulness
उल्फ़त # प्रेम, love

##————##————-##———-

Language: Hindi
12 Likes · 26 Comments · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
आवाहन
आवाहन
Shyam Sundar Subramanian
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2451.पूर्णिका
2451.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"विश्वास"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
VINOD CHAUHAN
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
Ravi Prakash
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr .Shweta sood 'Madhu'
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
" आखिर कब तक ...आखिर कब तक मोदी जी "
DrLakshman Jha Parimal
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
पूर्वार्थ
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...