Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2017 · 1 min read

उजली-सी किरण

वो उजली सी किरण
चली थी कुछ यूँ निकलकर
नभ से गिरी सी
धरा पर चली आई
कभी शाख पर कभी पात पर
कभी किसी नीर के विविध गात पर
उल्लसित होकर लहरों से उलझी
फिर किसी उदास कोने में सिमटी
विरोधी तम रहा दूर भागता सा
दमकने लगे कण उसमें नहाकर
गिरी ज्यूँ सुंदरी के सुनहली देह पर
मुदित हो गई मानो रूप लावण्या
कर्ण फूल से उठी चमक से
चुँधियाने लगी कई लोलुप आँखें
चरम पर बढा़ जब दिवस का पहरा
आर्तनाद करने लगी छिपी बूँद निशा की
किरण ने भी फिर रूद्रता दिखाई
चुभने लगी कोमलांगों को
पर तपते पथ पर
था एक मानुस गात
जो लापरवाह सा डूबा था स्वकर्म में
श्रमजल से आप्लावित श्याम देह उसकी
थी बानगी उसकी उद्यमिता की
एक कंकरीट के पहाड़ को
जो अपनी कला से
एक सुघड़ अट्टालिका में था गढ़ता
किरण जो पहुँची सगर्व पास उसके
मगर धुंधला गई उसकी दमक से
पडी़ ज्यूँ पुष्ट स्याह गात पर
दम तोड़ने लगी छटपटाकर
पिघल गई पा निजता उसकी
तीक्ष्णता किरण की कुंद हो गई
डिगा न पाई
श्रमिक के पग को
विलीन हो गई
उसकी कर्मठता में
बडी़ सूक्ष्मता से देखा जो उसको
एक आह सी निकली स्वेद के कणों से
ओह! किरण जो तपाती थी
हर एक सै को
वो सह न पाई स्वयं
ताप उस हठी उद्यमी का
सोनू हंस

Language: Hindi
536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
हो गया
हो गया
sushil sarna
अगर मन वचन और कर्मों में मर्यादा न हो तो
अगर मन वचन और कर्मों में मर्यादा न हो तो
Sonam Puneet Dubey
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
कृष्णकांत गुर्जर
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
*आते हैं जो पतझड़-वसंत, मौसम ही उनको मत जानो (राधेश्यामी छंद
*आते हैं जो पतझड़-वसंत, मौसम ही उनको मत जानो (राधेश्यामी छंद
Ravi Prakash
गुलाब
गुलाब
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
3645.💐 *पूर्णिका* 💐
3645.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
सावन
सावन
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
अहंकार
अहंकार
Bindesh kumar jha
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
DrLakshman Jha Parimal
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...