Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

“ईश्वर और मै”

हर दिन एक नया इन्तेहाँ,
हर रात एक नयी चुनौती,
हर लम्हा एक नया गम,
हर गम पर मेरी नयी मुस्कान,
न तू हारता है,
न मैं थकता हूँ,
अब तू ही बता मेरे मालिक,
कितने और इन्तेहाँ बाकी हैं
मेरे जिंदगी में लेने को,
कितनी और चुनौतियाँ हैं
तेरे पास मुझे देने को,
कितने और गम बाकी हैं,
मेरे जिंदगी में आने को,
चल एक समझौता करते हैं,
तू एक दिन में जितने चाहे इन्तेहाँ ले ले,
जितनी चुनातियां हैं सब दे दे,
जितने गम हैं वो भी दे दे,
मैं तैयार हूँ,
गर मैं सह गया
और दिन गुजार गया पूरा,
अपनी ख़ुशी के साथ,
मेरी ज़िन्दगी को सुकून बख्शेगा ,
जी लेने देगा मुझे ज़िन्दगी,
मेरे चाहने वाले के साथ,
तू कोई और काँटा नहीं बिछाएगा
राह में मेरी,
तू भी मेरा हो के रहेगा,
बस यही आरजू-ऐ-दिल है मेरी,
तू करता है न वादा??

“संदीप कुमार”

4 Comments · 582 Views
You may also like:
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पापा
सेजल गोस्वामी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
Loading...