Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

“ईश्वर और मै”

हर दिन एक नया इन्तेहाँ,
हर रात एक नयी चुनौती,
हर लम्हा एक नया गम,
हर गम पर मेरी नयी मुस्कान,
न तू हारता है,
न मैं थकता हूँ,
अब तू ही बता मेरे मालिक,
कितने और इन्तेहाँ बाकी हैं
मेरे जिंदगी में लेने को,
कितनी और चुनौतियाँ हैं
तेरे पास मुझे देने को,
कितने और गम बाकी हैं,
मेरे जिंदगी में आने को,
चल एक समझौता करते हैं,
तू एक दिन में जितने चाहे इन्तेहाँ ले ले,
जितनी चुनातियां हैं सब दे दे,
जितने गम हैं वो भी दे दे,
मैं तैयार हूँ,
गर मैं सह गया
और दिन गुजार गया पूरा,
अपनी ख़ुशी के साथ,
मेरी ज़िन्दगी को सुकून बख्शेगा ,
जी लेने देगा मुझे ज़िन्दगी,
मेरे चाहने वाले के साथ,
तू कोई और काँटा नहीं बिछाएगा
राह में मेरी,
तू भी मेरा हो के रहेगा,
बस यही आरजू-ऐ-दिल है मेरी,
तू करता है न वादा??

“संदीप कुमार”

Language: Hindi
4 Comments · 690 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
प्रेरणादायक कविता
प्रेरणादायक कविता
Anamika Tiwari 'annpurna '
"" *अक्षय तृतीया* ""
सुनीलानंद महंत
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनुभव 💐🙏🙏
अनुभव 💐🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
Loading...