Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

“ईश्वर और मै”

हर दिन एक नया इन्तेहाँ,
हर रात एक नयी चुनौती,
हर लम्हा एक नया गम,
हर गम पर मेरी नयी मुस्कान,
न तू हारता है,
न मैं थकता हूँ,
अब तू ही बता मेरे मालिक,
कितने और इन्तेहाँ बाकी हैं
मेरे जिंदगी में लेने को,
कितनी और चुनौतियाँ हैं
तेरे पास मुझे देने को,
कितने और गम बाकी हैं,
मेरे जिंदगी में आने को,
चल एक समझौता करते हैं,
तू एक दिन में जितने चाहे इन्तेहाँ ले ले,
जितनी चुनातियां हैं सब दे दे,
जितने गम हैं वो भी दे दे,
मैं तैयार हूँ,
गर मैं सह गया
और दिन गुजार गया पूरा,
अपनी ख़ुशी के साथ,
मेरी ज़िन्दगी को सुकून बख्शेगा ,
जी लेने देगा मुझे ज़िन्दगी,
मेरे चाहने वाले के साथ,
तू कोई और काँटा नहीं बिछाएगा
राह में मेरी,
तू भी मेरा हो के रहेगा,
बस यही आरजू-ऐ-दिल है मेरी,
तू करता है न वादा??

“संदीप कुमार”

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 615 Views
You may also like:
**चरम सीमा पर अश्लीलता**
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
महाकवि
Shekhar Chandra Mitra
समय
Saraswati Bajpai
कोरोना महामारी
Irshad Aatif
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो कोरोना का क़हर भी याद आएगा
kumar Deepak "Mani"
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
*चार दिवस का मेला( गीत )*
Ravi Prakash
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम भूल गए सच में, संस्कृति को
gurudeenverma198
हिन्द का बेटा हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
तुम को पाते हैं हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भक्ता (#लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गमों के समंदर में।
Taj Mohammad
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
Book of the day: मालव (उपन्यास)
Sahityapedia
परिचय
Pakhi Jain
Loading...