Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके

ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके चरित्र की लिंक है।
RJ Anand Prajapati

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
#लघुकविता
#लघुकविता
*प्रणय प्रभात*
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
Being an
Being an "understanding person" is the worst kind of thing.
पूर्वार्थ
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
"मोहब्बत में"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
2601.पूर्णिका
2601.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
Loading...