Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

ईज्जत

ईज्जत
बेज्जती का बदला पुरा सुत समेत वापस करना चाहिए
क्योकि जब तक सहना नहीं छोड़ेंगे लोग कहना नही छोड़ेंगे

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
उसे तो आता है
उसे तो आता है
Manju sagar
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Memories
Memories
Sampada
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
2. *मेरी-इच्छा*
2. *मेरी-इच्छा*
Dr Shweta sood
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
!! यह तो सर गद्दारी है !!
!! यह तो सर गद्दारी है !!
Chunnu Lal Gupta
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
हमनवां जब साथ
हमनवां जब साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
बूढ़ी माँ .....
बूढ़ी माँ .....
sushil sarna
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
*दुखड़ा कभी संसार में, अपना न रोना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*दुखड़ा कभी संसार में, अपना न रोना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
Loading...