Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*

इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)
_________________________
इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें
1)
मौसम की मादकता को हम, छुऍं धन्य हो जाऍं
छिपी हवा में जो मस्ती है, भीतर अपने लाऍं
अब तक जिसको नहीं कह सके, उसको अपना मीत लिखें
2)
नए-नए पत्ते पेड़ों पर, कोमल भाव जगाते
चलता कितना मधुर सृष्टि-क्रम, हमको यही बताते
पतझड़ के ऊपर वसंत की, सत्य सनातन जीत लिखें
3)
कहें उदासी तुम थोड़े दिन, जो ऑंसू बन आईं
दो दिन का पड़ाव यह अच्छा, फिर प्रमुदित मुस्काईं
काल चल रहा धीरे-धीरे, यों उसको अभिनीत लिखें
इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें
———————————————————–
अभिनीत = जिसका अभिनय हुआ हो
________________________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
■ सुबह की सलाह।
■ सुबह की सलाह।
*Author प्रणय प्रभात*
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
****शीतल प्रभा****
****शीतल प्रभा****
Kavita Chouhan
"इस पृथ्वी पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
Ravi Prakash
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
अवध से राम जाते हैं,
अवध से राम जाते हैं,
अनूप अम्बर
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
सत्य पथ पर (गीतिका)
सत्य पथ पर (गीतिका)
surenderpal vaidya
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
DrLakshman Jha Parimal
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
जिंदगी की धुंध में कुछ भी नुमाया नहीं।
जिंदगी की धुंध में कुछ भी नुमाया नहीं।
Surinder blackpen
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...