Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

इस दरिया के पानी में जब मिला,

इस दरिया के पानी में जब मिला,
नहीं था अपना, फिर भी अपना अपना लगा।
तुमसे मिलकर दिल में हुआ एक नया जज्बा,
बहुत देर बाद, अच्छा लगा।

1 Like · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बड़ी अजब है प्रीत की,
बड़ी अजब है प्रीत की,
sushil sarna
ଅନୁଶାସନ
ଅନୁଶାସନ
Bidyadhar Mantry
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो मुझे रूठने नही देती।
वो मुझे रूठने नही देती।
Rajendra Kushwaha
पंचायती राज दिवस
पंचायती राज दिवस
Bodhisatva kastooriya
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
Ravi Prakash
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
gurudeenverma198
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
"अजीब रिवायत"
Dr. Kishan tandon kranti
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...