Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

इसे कहते हैं

इसे कहते हैं
“लच्छा परांठे” की दौड़ में
प्लेट की “तंदूरी रोटी”
नीचे गिरा बैठना।।

😢प्रणय प्रभात😢

1 Like · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
*नज़ाकत या उल्फत*
*नज़ाकत या उल्फत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
As you pursue your goals and become a better version of your
As you pursue your goals and become a better version of your
पूर्वार्थ
वक्त से गुज़ारिश
वक्त से गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
2800. *पूर्णिका*
2800. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
*विजय कारगिल की बतलाती, भारत देश महान है (गीत)*
*विजय कारगिल की बतलाती, भारत देश महान है (गीत)*
Ravi Prakash
भावनात्मक निर्भरता
भावनात्मक निर्भरता
Davina Amar Thakral
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
मेरा दामन भी तार- तार रहा
मेरा दामन भी तार- तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...