Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 1, 2022 · 1 min read

इश्क के मारे है।

इश्क के मारे है।
किस्मत के सहारे है।।1।।

पत्थर हो गए है।
अश्कों को सुखाए है।।2।।

रिश्तों में धोखे है।
सारे ही हुए पराए है।।3।।

बड़ी याद आती है।
दिल को बहलाए है।।4।।

चाह कर भी हम।
उसे भुला ना पाए है।।5।।

जानते है फरेबी है।
फिरभी दिल लगाए है।।6।।

राहत मिल जाती है।
झूठी उम्मीदों के सहारे है।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

79 Views
You may also like:
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
"अशांत" शेखर
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव शम्भु
Anamika Singh
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
उसूल
Ray's Gupta
Loading...