Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

इश्क के मारे है।

इश्क के मारे है।
किस्मत के सहारे है।।1।।

पत्थर हो गए है।
अश्कों को सुखाए है।।2।।

रिश्तों में धोखे है।
सारे ही हुए पराए है।।3।।

बड़ी याद आती है।
दिल को बहलाए है।।4।।

चाह कर भी हम।
उसे भुला ना पाए है।।5।।

जानते है फरेबी है।
फिरभी दिल लगाए है।।6।।

राहत मिल जाती है।
झूठी उम्मीदों के सहारे है।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
Ms.Ankit Halke jha
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
Shekhar Chandra Mitra
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
*Author प्रणय प्रभात*
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
एक ख़्वाब की सी रही
एक ख़्वाब की सी रही
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
gpoddarmkg
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
Vijay kannauje
जज़्बात-ए-दिल
जज़्बात-ए-दिल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
करुणा के बादल...
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
नरभक्षी_गिद्ध
नरभक्षी_गिद्ध
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तितली
तितली
Manu Vashistha
"सच कहूं _ मानोगे __ मुझे प्यार है उनसे,
Rajesh vyas
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
Ravi Prakash
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
शायर जानता है
शायर जानता है
Nanki Patre
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बुलन्दी शोहरत हो कितनी,
बुलन्दी शोहरत हो कितनी,
Satish Srijan
Loading...