Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

इश्क का तोता

अजब बेचैनी है दिल में ,
सुकुं ढूँडे ये पागल मन,
नहीं इसको समझ आता
इश्क तो है दिवानापन ।

है लाईलाज बीमारी,
एक तुम ही नहीं प्यारे,
ये दुनिया है दुखी सारी
प्यार ज़िसे कहते हैं,
होती वो मीठी कटारी,
जो पड़ती है जान पर भारी।

इश्क के खेल निराले,
ये सब रिश्ते भुला डाले ।
हो ज़िसकी किस्मत मिल जाए,
नहीं तो प्राण ले डाले ।
इसलिए कहती है नीलम,
गधा,शेर,सांप, मगरमच्छ कुछ भी पालें।
जीना हो जो सुखद,तो इश्क का तोता न पालें।

नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
“नये वर्ष का अभिनंदन”
“नये वर्ष का अभिनंदन”
DrLakshman Jha Parimal
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*Author प्रणय प्रभात*
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
चाँद पूछेगा तो  जवाब  क्या  देंगे ।
चाँद पूछेगा तो जवाब क्या देंगे ।
sushil sarna
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
Rj Anand Prajapati
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...