Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

“इशारे” कविता

नहीं भूल पाता, चमत्कार उनका,
मिलन अप्रतिम, उफ़ वो नदिया किनारे।
नयन-बाण, तरकश के, रीते हुए सब,
निगाहों के मादक, वो चँचल इशारे।

अधर उनके रक्तिम, कनक-वर्ण आभा,
घने केश, मतवाले, मेघों से प्यारे।
नयन-घट, से छलके जो मदिरा निरन्तर,
जलेँ क्यों न मुझसे, भला, देव सारे।

शरारत पवन को भी, सूझी अजब सी,
गिरा उनका आँचल, हुए हम बेचारे।
रहा धड़कनों पर था, अब तो न काबू,
जो इक पल मेँ सब, हो गए वारे-न्यारे।

है स्मृति मेँ अब तक, वो कोमल छुअन क्यूँ,
कहूँ कैसे, क्यूँ, उन पे दिल हम थे हारे।
विचारों मेँ उनका ही, प्रतिबिम्ब उभरा,
थे क्यूँ हो गए हम, उन्हीं के सहारे।

चमकते हुए चन्द्र, वो ही हैं बेशक,
भले व्योम मेँ, अनगिनत हैं सितारे।
अभी भी वो आते हैं, स्वप्नों मेँ अक्सर,
निराशा मेँ “आशा” वही हैं हमारे..!

Language: Hindi
12 Likes · 16 Comments · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Hello
Hello
Yash mehra
वो तेरी पहली नज़र
वो तेरी पहली नज़र
Yash Tanha Shayar Hu
सुना है हमने दुनिया एक मेला है
सुना है हमने दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मन
मन
Neelam Sharma
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
4. गुलिस्तान
4. गुलिस्तान
Rajeev Dutta
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
Hard To Love
Hard To Love
Vedha Singh
बीती रात मेरे बैंक खाते में
बीती रात मेरे बैंक खाते में
*प्रणय प्रभात*
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
Jay Dewangan
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
Loading...