Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

इम्तिहान

इम्तिहान

ना पूछ क्या मैं तेरा ,इम्तिहान चाहता हूँ,
तेरी नज़रों से तेरी,पहचान चाहता हूँ।
खुद की नजरों में होगे तुम नेक जरा सोच लो,
तराजू पर पूरा ईमान चाहता हूँ।
मजबूरियां नहीं है तो और क्या है आखिर,
शराफत ये ग़ैरत बयान चाहता हूँ।
ना डर हो खुदा का ना जन्नत का लोभ,
बेख़ौफ़ में तुम क्या हो वो नाम चाहता हूँ।

अजय अमिताभ सुमन

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
VINOD CHAUHAN
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
Ravi Prakash
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Jindagi Ke falsafe
Jindagi Ke falsafe
Dr Mukesh 'Aseemit'
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
जब-जब सत्ताएँ बनी,
जब-जब सत्ताएँ बनी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
पूर्वार्थ
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...