Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2023 · 1 min read

इजहार ए इश्क

हसरतों को अपनी दबाकर न रक्खों,
लबों पे खामोशी यूं सजाकर न रक्खों,

कबूल गर तुमको है मुझसे मोहब्बत,
तो मोहब्बत को अपनी छुपाकर न रक्खाें।

इकरार मुझसे कर लो चाहत का अपनी,
दिल की धड़कनों को धड़का कर न रक्खों,

इजहरें इश्क माना डर लगता बहुत है,
एहसासों को अपने डराकर न रक्खाें।

हसीन लम्हों की थोड़ी नज़ाकत तो समझो,
नजरों को अपनी झुकाकर न रक्खों,

सिमट जाओ पूरी अब बाहों में हमारी,
हया को तुम अपना बनाकर न रक्खों।
@साहित्य गौरव

Language: Hindi
1 Like · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*Author प्रणय प्रभात*
बावला
बावला
Ajay Mishra
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*
Rashmi Sanjay
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
Ravi Prakash
தனிமை
தனிமை
Shyam Sundar Subramanian
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
जो मेरी जान लेने का इरादा ओढ़ के आएगा
जो मेरी जान लेने का इरादा ओढ़ के आएगा
Harinarayan Tanha
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
ले बुद्धों से ज्ञान
ले बुद्धों से ज्ञान
Shekhar Chandra Mitra
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
DrLakshman Jha Parimal
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Loading...