Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

आ ख़्वाब बन के आजा

तरसी हुई नज़र को
उम्मीदें दीद है।
आ ख़्वाब बन के आजा
आंखों में नींद है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
पूर्वार्थ
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
शेखर सिंह
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उधार वो किसी का रखते नहीं,
उधार वो किसी का रखते नहीं,
Vishal babu (vishu)
माँ ....लघु कथा
माँ ....लघु कथा
sushil sarna
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
Lohit Tamta
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...