Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

*आज़ का सच*

भोली-भाली सूरत होती
काली लेकिन सीरत होती
हो अंतर में शैतान बसा
घर में रब की मूरत होती
*धर्मेंद्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
272 Views
You may also like:
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जन्नत -ए - इश्क
Seema 'Tu hai na'
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
उत्तराखण्डी गीतों की लोकप्रिय अभिनेत्री रीना के निधन पर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️रूह-ए-इँसा✍️
'अशांत' शेखर
प्रेरणा दायक कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
देश के गद्दार
Shekhar Chandra Mitra
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
नाम
Ranjit Jha
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
मिलना है तुमसे
Rashmi Sanjay
मन की उलझने
Aditya Prakash
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
वक्र यहां किरदार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
परिवार
Abhishek Pandey Abhi
कलम
Dr Meenu Poonia
Writing Challenge- रहस्य (Mystery)
Sahityapedia
श्वान
लक्ष्मी सिंह
*सातवाँ तलाक (कहानी)*
Ravi Prakash
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
दीप सब सद्भाव का मिलकर जलाएं
Dr Archana Gupta
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...