Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,

आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
वीरान पड़े उस मंदिर में ज्योत, जीवन की जला जाती है।
छंट जाते हैं बादल, तन्हाई के कुछ इस कदर,
की मुहब्बत की ढलती शाम, में बूंदें ओस की गिर जाती हैं।
सिद्दतें सितारों की घनी रात, के अंधेरों से लड़ आती है,
और तेरी गुम हुई खुशबू से, मेरे घर को महका जाती है।
बेहोश हुए ज़हन को तेरी परछाईयां बुलाती है,
रूह के हर कोने में, सदायें चाहतों की गुनगुनाती है।
अक्स को तेरे छूकर, तमन्ना मदहोशी से भर आती है,
और अश्क की झिलमिलाहट, तेरे ना होने की खबर लाती है।
गलीचे फूलों की राहों में, बहारें आज भी बिछाती है,
पर तेरे हाथों की गर्माहट को, मेरी लकीरें तरस जाती हैं।
वो उठती सुबह जाने कितनी हीं, उमीदों को जगाती है,
पर तेरी मौजूदगी के उस ख़्वाब को, मेरी आँखों से चुराती है।

1 Like · 315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
"अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
कवि दीपक बवेजा
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
प्रेमदास वसु सुरेखा
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
वो शिकायत भी मुझसे करता है
वो शिकायत भी मुझसे करता है
Shweta Soni
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
"खुश होने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
#एकअबोधबालक
#एकअबोधबालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Gatha ek naari ki
Gatha ek naari ki
Sonia Yadav
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
💐प्रेम कौतुक-174💐
💐प्रेम कौतुक-174💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"इस हथेली को भी बस
*Author प्रणय प्रभात*
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
Loading...