Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

आस्मां से ज़मीं तक मुहब्बत रहे

1)आस्मां से ज़मीं तक मुहोबत रहे
ए ख़ुदा सब पे तेरी इनायत रहे

2)आपका हर सितम हंस के सह लेंगे हम
कुछ तो हो दरमियाॅं चाहे नफ़रत रहे

3)आए तूफां कोई छू न पाए हमें
आशियां ये हमारा सलामत रहे

4)सिलसिला उल्फ़तों का चले इस तरह
उम्र भर साथ जीने की चाहत रहे

5)मेरी सांसों में बस इक तेरा नाम हो
इश्क़ जब तक रहे ये रिवायत रहे

6)रूठना और मनाना रहे हमसफ़र
आपसे ही वफ़ा और शिक़ायत रहे

7)इस तरह मंतशा पास आ जाइये
आख़िरी सांस तक ये ज़रूरत रहे

🌹मोनिका मंतशा🌹

Language: Hindi
1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
गवाही देंगे
गवाही देंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
3202.*पूर्णिका*
3202.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
Chandra Kanta Shaw
........
........
शेखर सिंह
आसमां का वजूद यूं जमीं से है,
आसमां का वजूद यूं जमीं से है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*
*"नरसिंह अवतार"*
Shashi kala vyas
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#सच्ची_घटना-
#सच्ची_घटना-
*प्रणय प्रभात*
अपना माना था दिल ने जिसे
अपना माना था दिल ने जिसे
Mamta Rani
Loading...