Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

आस्था होने लगी अंधी है

आस्था होने लगी अंधी है
मंदिर में मनुष्यों की मंदी है,
कलयुग ने कदम रखा है,
नीयत निहायती गंदी है,

वासना करती है इस वीराने मे अब वास बस,
पानी ही नहीं रही पर्याप्त प्यास बस,
भूख है की भरती नहीं भ्रष्टाचार की
कर्म को किनारे करके कायम है अब कयास बस,

वकील वसीयत से विलुप्त कर देते है विरासत,
स्वर्ग के सपने सजा कर संवरती है सियासत,
ठगों को भी ठगा जा रहा है,
हद है हसरत की, कि हार गई हर हिरासत ।।

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
Safar : Classmates to Soulmates
Safar : Classmates to Soulmates
Prathmesh Yelne
माता के नौ रूप
माता के नौ रूप
Dr. Sunita Singh
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*Author प्रणय प्रभात*
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
कवि दीपक बवेजा
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी कम न हो
कभी कम न हो
Dr fauzia Naseem shad
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...