Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Dec 2023 · 1 min read

आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।

आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
नही करते हो विश्वास हम पर, ये बात नही थी बतानी।।
गलतफहमियां ही सही, जीते तो रहते आखिर,
इस बहस को ही समझते तेरे प्यार की निशानी।।

बढ़ती नजदीकियों का किस्सा यहीं खतम हो।
तू गर चली जाए, दोनों को न कोई गम हो।।
हैं याद तो बहुत सी, मुश्किल हैं मिटाना,
इस मुश्किल घड़ी में, न कोई आंख नम हो।।
वो तेरा आना, दिल तोड़कर चले जाना,
मान लेंगे तेरा आना, बस एक बहम हो।।

198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
आपातकाल
आपातकाल
Shekhar Chandra Mitra
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
एक नासूर ये गरीबी है
एक नासूर ये गरीबी है
Dr fauzia Naseem shad
अशोक महान
अशोक महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
Yash mehra
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
قفس میں جان جائے گی ہماری
قفس میں جان جائے گی ہماری
Simmy Hasan
"बहाव"
Dr. Kishan tandon kranti
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
अश्क चिरैयाकोटी
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2567.पूर्णिका
2567.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंधभक्ति
अंधभक्ति
मनोज कर्ण
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
Loading...