Sep 22, 2016 · 1 min read

आसमां बुलाता है

आसमां बुलाता करता, हमें इशारे भी
छोड़ के जमीं को आ , लोक यह पुकारे भी

याद तू करा जाये , छोड़ जब यहाँ आये
समय बाद भूले तुझको , सभी तुम्हारे भी

तू ठगा गया खुद से ही , यहाँ जमाने में
फिर खुदा उबारेगा , देख ये नजारे भी

तू नही अकेला है साथ में , वहीं भगवाँ
पार अब लगायेगें , आपको सितारे भी

नाव ले तुझे जायें , अब कहाँ यहीं जीवन
पर जहाँ चलेगी ये , साथ है किनारें भी

कोन सी रची लीला , आज यह विधाता ने
नाच कर नग्न इज्जत , फिर सभी उतारे भी

नोच कर इंसाँ खाता , है खुदा हमारा अब
कोन फिर सँभाले है , जो हुए शिकारे भी

डॉ मधु त्रिवेदी

70 Likes · 175 Views
You may also like:
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चाँद छोड़ आई थी ...
Princu Thakur "usha"
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
पापा की परी...
Sapna K S
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
तुम हो
Alok Saxena
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H.
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
pradeep nagarwal
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
An abeyance
Aditya Prakash
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
कामयाबी
डी. के. निवातिया
फरिश्ता से
Dr.sima
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...