Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

आसमां बुलाता है

आसमां बुलाता करता, हमें इशारे भी
छोड़ के जमीं को आ , लोक यह पुकारे भी

याद तू करा जाये , छोड़ जब यहाँ आये
समय बाद भूले तुझको , सभी तुम्हारे भी

तू ठगा गया खुद से ही , यहाँ जमाने में
फिर खुदा उबारेगा , देख ये नजारे भी

तू नही अकेला है साथ में , वहीं भगवाँ
पार अब लगायेगें , आपको सितारे भी

नाव ले तुझे जायें , अब कहाँ यहीं जीवन
पर जहाँ चलेगी ये , साथ है किनारें भी

कोन सी रची लीला , आज यह विधाता ने
नाच कर नग्न इज्जत , फिर सभी उतारे भी

नोच कर इंसाँ खाता , है खुदा हमारा अब
कोन फिर सँभाले है , जो हुए शिकारे भी

डॉ मधु त्रिवेदी

70 Likes · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
Buddha Prakash
प्रणय 10
प्रणय 10
Ankita Patel
💐प्रेम कौतुक-158💐
💐प्रेम कौतुक-158💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
Satish Srijan
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पढ़ना लिखना बहुत ज़रूरी
पढ़ना लिखना बहुत ज़रूरी
Dr Archana Gupta
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
धिक्कार उन मूर्खों को,
धिक्कार उन मूर्खों को,
*Author प्रणय प्रभात*
हवा में हाथ
हवा में हाथ
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यह देश किसका?
यह देश किसका?
Shekhar Chandra Mitra
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
तेरी यादों की
तेरी यादों की
Dr fauzia Naseem shad
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना है, पर बता कर जाया कर, तेरी फ़िक्र पर हमें भी अपना हक़ आजमाना है।
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना है, पर बता कर जाया कर, तेरी फ़िक्र पर हमें भी अपना हक़ आजमाना है।
Manisha Manjari
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
रिश्ते के सफर जिस व्यवहार, नियत और सीरत रखोगे मुझसे
रिश्ते के सफर जिस व्यवहार, नियत और सीरत रखोगे मुझसे
पूर्वार्थ
*जाड़ा आया  (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जाड़ा आया (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
Rain (wo baarish ki yaadein)
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
टूटता तारा
टूटता तारा
Ashish Kumar
Loading...