Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2023 · 1 min read

शायर अपनी महबूबा से

छुप-छुप कर
मेरा दीदार न कर
चोरी-चोरी
आंखें चार न कर…
(१)
या तो खुलकर
तू मुझसे
प्यार जता
या फिर कह दे
तू मुझसे
प्यार न कर…
(२)
इस खेल को
सच न
समझ बैठूं
मज़ाक की सीमा
पार न कर…
(३)
मैं तुझसे नहीं
मिल सकती कभी
झूठ-मूठ में
मेरा इंतज़ार न कर…
‌‌(४)
एक तेरी जुदाई
काफ़ी है
बेगानों से मिलकर
वार न कर…
(५)
जैसा भी हूं
तेरा आशिक हूं
मेरी ज़िंदगी
बेकार न कर…
(६)
ऐसे नगमों और
ग़ज़लों में
दर्दे-दिल का
इज़हार न कर…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#कवि #गीतकार #singer #प्यार
#शायर #कवि #सिनेमा #फिल्म
#lyricist #love #romantic
#bollywood #खिड़की #लड़की

Language: Hindi
143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किस्मत
किस्मत
Vandna thakur
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
2669.*पूर्णिका*
2669.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
Mukesh Kumar Sonkar
संसार में सही रहन सहन कर्म भोग त्याग रख
संसार में सही रहन सहन कर्म भोग त्याग रख
पूर्वार्थ
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
रे मन
रे मन
Dr. Meenakshi Sharma
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
Vishal babu (vishu)
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
Vicky Purohit
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*धन जीवन-आधार, जिंदगी चलती धन से(कुंडलिया)*
*धन जीवन-आधार, जिंदगी चलती धन से(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...