Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

*आशाओं के दीप*

मां तेरी ममता से कैसे
कोई नफरत कर सकता है
कोई पत्थर दिल ही होगा
जो तेरी आंखों में
नीर देख सकता है।

इस मतलब की दुनिया में
अब तो बस आपाधापी
शीश नवाऊं तेरे चरणों में
तुझको कैसे कोई
कुमाता कह सकता है।

भाई बहन के रिश्ते में
स्नेह अपार होता था
इस झूठी शान शौकत में
कैसे कोई नफरत में बांट सकता है ।

खून के रिश्ते नातों में
जो अपनापन होता है
कुछ लोगों के कुछ कह देने से क्या?
इसमें नफरत का बीज उग सकता है।

हम इंसान हैं तो खुदा
सबके अलग-अलग है
तेरा मंदिर ,मेरा मस्जिद
कह देने से क्या कोई नफरत से
भगवानों को बांट सकता है।

कितना दुर्लभ होता जा रहा है
मात पिता को संग रखपाना
इस कुटिल हृदय की साजिश में
प्यार पर भारी नफरत हो जाती है।

आशाओं के दीप के जैसा
मात-पिता ने हमको पाला
चाहत के अरमानों को हमको दे डाला
कोई नफरत उनसे करें तो करें!
हमने तो उम्र भर का नाता
उनकी मुस्कानों को दे डाला।

2 Likes · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
Ravi Prakash
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
2397.पूर्णिका
2397.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
kavita verma
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
शाकाहार बनाम धर्म
शाकाहार बनाम धर्म
मनोज कर्ण
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
Thought
Thought
Jyoti Khari
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
💐प्रेम कौतुक-162💐
💐प्रेम कौतुक-162💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...