Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 2 min read

आलेख – मित्रता की नींव

मित्रता की नींव

बदलते समाज के साथ आजकल मनुष्य भी अपनी पसंद,दिनचर्या व संबंध परिवर्तित कर रहा है। बिना कोई परिवर्तन के गुजारा भी संभव नहीं है। हर किसी को अपने समक्ष परिस्थिति के अनुसार ही व्यवहार प्रदर्शित करना पड़ता है। इसी में शामिल व्यक्ति के साथ एक हिस्सा अपना अहम् भूमिका निभाता है वो है मित्रता।
अपने जीवन में हर जगह मित्रता की आवश्यकता जरूर पड़ती है। हाँ उस मित्रता का स्वरूप कुछ भी हो सकता है।
जयशंकर प्रसाद जी ने अपने मित्रता नामक निबंध में लिखा है कि मनुष्य को अपने भावी जीवन के लिए मित्रता की जरूरत जरूर पड़ती है। प्रसाद जी ने मित्र चुनने की प्रवृत्ति छात्रावस्था में बताई है जो बिलकुल सही है।
इसी प्रकार मनुष्य के आगे के जीवन में भी मित्रता का विशेष महत्व रहता है।इसलिए मित्र चुनने के समय आप पहले सामने वाले व्यक्ति के बारे में पूरी तरह जान लेना चाहिए कि वो कैसा है?,उनकी रुचि कैसी है?,उनका व्यक्तित्व कैसा है?
ये सभी सवाल प्रसाद जी ने भी मित्रता में प्रविष्ट किये हैं।
गर भूल से गलत मित्रता की संगत हो जाती है तो मनुष्य का भावी जीवन बर्बाद हो जाता है। उनकी सब आशाएँ धूमिल हो जाती है।
हमारा एक मित्र था- त्रिपाठी।उनका नाम नहीं दे सकता हूँ।उन्होंने मुझे बताया कि मैंने एक मित्र चुना फेसबुक पर ही।फिर देर रात तक बातें होने लगी…वाटस्प के जरिए तथा बाद में फोन के द्वारा सीधे ही।खूब जान पहचान बना ली। उन्होंने बताया कि वो सरकारी नौकरी में है। फिर क्या था बातचीत चलते चलते बात रिश्ते में बदल गई।
उसने बताया कि हम एक बार किसी होटल में मिले…..शादी की बात हुई।
उसने कहा कि मैं तुम्हारे घर आऊँगा और अपने रिश्ते की बात करूंगा।
कुछ दिन निकल गए कोई बातचीत नहीं हुई…सिर्फ ब्लैक मेल का मैसेज आया और उसमें रुपयों की माँग की गई थी।
तब मैंने पूछा तो आपने क्या किया ?
उसने बताया कि मैंने सबकुछ बंद कर दिया।
वाटस्प,फेसबुक वो सिम भी जिसका इस्तेमाल होता था।
इसलिए मित्रता करते समय बनने वाले मित्र के बारे में आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए ताकि आगे जीवन में कोई समस्या न सामने खड़ी हो।
हाँ मित्रता की जो नींव है वो विश्वास है।विश्वास के सहारे ही मित्रता को पहचाना जा सकता है। लेकिन आज की जो छात्रावस्था की प्रवृत्ति है वो बहुत ज्यादा खराब हो गई है। हाँ पढ़ने में बहुत ज्यादा होशियार हो सकते हैं लेकिन उनके ज्ञान और व्यक्तित्व का विकास नहीं हुआ है।उनमें मित्रता का कोई मोल नहीं है…..उनकी रुचि,आदतें व चलन दिन प्रतिदिन बिगड़ता जा रहे है।
उनमें संस्कारों की कोई झलक नहीं दिखाई देती। आजकल के बच्चे छोटे-बड़ों व गुरुजनों का आदर सत्कार करना भी भूल गए हैं।
ये सब मित्रता की संगत का ही असर है।।

मुझे मेरे सभी दोस्त बहुत प्रिय है क्योंकि मुझे उनसे हमेशा कुछ न कुछ सीखने को ही मिलता है।

धन्यवाद

रोहताश वर्मा ‘ मुसाफिर ‘

1 Like · 142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिन्ता
चिन्ता
Dr. Kishan tandon kranti
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
😢नारकीय जीवन😢
😢नारकीय जीवन😢
*Author प्रणय प्रभात*
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
“जब से विराजे श्रीराम,
“जब से विराजे श्रीराम,
Dr. Vaishali Verma
Y
Y
Rituraj shivem verma
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
जय श्री राम
जय श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
स्वार्थी आदमी
स्वार्थी आदमी
अनिल "आदर्श"
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
बदला सा व्यवहार
बदला सा व्यवहार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
सवेदना
सवेदना
Harminder Kaur
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
Shweta Soni
Loading...