Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 12, 2019 · 1 min read

आलस

||विधाता छंद ||
विधान – २८ मात्रा, १४- १४ मात्रा पर यति,चार चरण, दो दो चरण समतुकांत, अंत गुरु गुरु !
( १,८,१५ व २२ वी मात्रा लघु)
1222 1222 1222 1222

मिला तेरा सहारा हैं , तुफां भी पार हो जाएँ !
खुदा का नाम प्यारा हैं, दिलों में रोशनी आएँ !
मुझे हे श्याम तेरा ही , रहा विश्वास नाता है !
गुरू के रूप में पाया , नया उल्लास आता हैं !!

छगन लाल गर्ग विज्ञ !

विषय – आलस !
विधा – विधाता छंद

मिला है आशियाना तो , घिरी है नींद की छाया !
बसी है रोशनी ऊर्जा , जहाँ हो चैन की माया !
तजो आलस भरी दुनिया, चलो ढूँढे किनारा भी !
प्रभा के तेज से सारा , हरेगा तिमिर कारा भी !!

निराशा के क्षणों में भी , जगी है प्यार की आशा !
बसी है रोशनी ऊर्जा , भले हो दर्द की भाषा !
तजो आलस भरी दुनिया, चलो छोड़ो बहाना भी !
उषा की लालिमा में हो , धरा का हर तराना भी!

यहाँ हैं थोक में आँसू, बहाना भी सजा होगी !
मिले हैं फर्ज में सारे , दिखाते हैं सदा ढोंगी !
बहा दो वक्त से इनको, मिटेगा राग माया से !
उठो जागो बनो चेतन, करो तो काम काया से !!

लगा हैं हर जुबां ताला , हवा का जोश अंधा है!
डरो मत और भी ज्यादा, निशाधर ठोस कंधा हैं!
सुनो यह काल है भारी , निभाओ हौशियारी में !
तजो हर वक्त आलस को ,क्रिया हो प्रीत प्यारी में !!

छगन लाल गर्ग विज्ञ!

264 Views
You may also like:
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*भादो की शुभ अष्टमी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
'अशांत' शेखर
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️चाँद में रोटी✍️
'अशांत' शेखर
" ठंडी ठंडी ठंडाई "
Dr Meenu Poonia
लिपि सभक उद्भव आओर विकास
श्रीहर्ष आचार्य
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
जिन्दगी।
Taj Mohammad
हक़ीक़त ने किसी ख़्वाब की
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
हम भी इसका
Dr fauzia Naseem shad
Loading...