Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2018 · 1 min read

आरक्षण २

आरक्षण देने से पहले लोगो ने सोचा होगा

जिसको ये उपहार मिले वो नीचे वर्ग का ही होगा।

आरक्षण देकर तुमने भेदभाव पर जोर दिया,

जातपात और छुआ छूत का नाता फिर से जोड़ दिया।

आरक्षण लेने वालों से अब तो ये कहना होगा

आरक्षण है एक “कुप्रथा” इसे खत्म करना होगा।

आरक्षण के रहते हमसब एक नही हो पाएँगे,

चाहे जितनी कोशिश कर लो, इसमें ही बट जाएँगे।

आरक्षण है ऐसा खंजर जो दूजो का हिस्सा काटे,

इसका खंजर चले उसी पर जो अपना हिस्सा माँगे।

©प्रशान्त तिवारी”अभिराम”

Language: Hindi
436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
Ranjeet kumar patre
2946.*पूर्णिका*
2946.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
जिन्दगी में बरताव हर तरह से होगा, तुम अपने संस्कारों पर अड़े
जिन्दगी में बरताव हर तरह से होगा, तुम अपने संस्कारों पर अड़े
Lokesh Sharma
रोबोटयुगीन मनुष्य
रोबोटयुगीन मनुष्य
SURYA PRAKASH SHARMA
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
प्रभु -कृपा
प्रभु -कृपा
Dr. Upasana Pandey
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
"जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
Sushila joshi
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
Loading...