Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

आरंभ

सफलता,
निर्भर है,
अच्छे आरंभ पर,
यानी शुभारंभ पर,
यह नींव है,
एक मजबूत
लक्ष्य का,
भविष्य के स्वप्न का,
विद्यार्थियों की सफलता का,
कारीगरों की कुशलता का,
खिलाड़ियों की जीत का,
गायकों के मधुर संगीत का।

शुभारंभ,
निर्भर है,
अच्छी शिक्षा औ संस्कार पर,
प्रेरक के व्यवहार पर,
मजबूत आत्मविश्वास पर,
आत्म-उत्थान औ विकास पर,
साउण्ड बैकग्राउण्ड पर,
प्लानिंग औ शार्प माइण्ड पर।

मौलिक व स्वरचित
श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

3 Likes · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
#प्रयोगात्मक_कविता-
#प्रयोगात्मक_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम से सुबह, तुम से शाम,
तुम से सुबह, तुम से शाम,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
अब सच हार जाता है
अब सच हार जाता है
Dr fauzia Naseem shad
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
💐प्रेम कौतुक-233💐
💐प्रेम कौतुक-233💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आओ नया निर्माण करें
आओ नया निर्माण करें
Vishnu Prasad 'panchotiya'
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
अनिल कुमार
Loading...